Posted By alpha
कश्मीर शॉकिंग : युवाओं का हिला देने वाला खुलासा, बताया कि नौकरी का झांसा देकर बुलाया कश्मीर लेकिन फिर कहा…

जम्मू-कश्मीर में आए दिन हो रही पत्थरबाजी को लेकर मोदी सरकार ने कमर कास ली है. मोदी सरकार ने घाटी में शांति व्यवस्था बनाने के चलते ही महबूबा मुफ़्ती की सरकार से समर्थन वापस लिया. जिस दिन से समर्थन वापस लिया है सुरक्षाबलों ने अपनी-अपनी कमान संभाल ली है. सेना भी अब चौकस हो गई है. वहीँ घाटी में पत्थरबाजी को लेकर अब ऐसी खबर सामने आ रही है जिसे सुनकर आप हक्के-बक्के रह जाएंगे.

Source

पत्थरबाजों को लेकर जो खुलासा किया जा रहा है उसके मुताबिक कश्मीर में यूपी के दो युवाओं को नौकरी देने के बहाने कश्मीर बुलाया गया. इतना ही नहीं मिली जानकारी के मुताबिक इन युवाओं को 20 हजार रुपए तक की सैलेरी का ऑफर भी दिया गया. लेकिन घाटी पहुंचने पर उन दोनों युवाओं से जो कम करने को कहा गया तो उनके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई.

Source

यूपी के इन युवाओं को काम के रूप में सेना व सुररक्षा बलों पर जबरन पत्थरबाजी कराई गई. उत्तर-प्रदेश के ये युवा वहां से जान बचाकर भाग निकले. इन युवाओं ने हाल ही में मीडिया से इस बारे में खुलासा किया. दोनों ने बताया कि अलगाववादियों ने उन्हें शुरू में नौकरी दिलाने की बात कही थी, मगर हकीकत कुछ और ही निकली.

Source

इन दो युवकों में से एक युवक बागपत का है, जबकि दूसरा युवक सहारनपुर का है. एक युवक ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि उन्हें पुलवामा में सिलाई का काम दिलाने की बात कही गई थी.  20 हजार रुपए इस काम के लिए तनख्वाह बताई गई. लेकिन वे जब वहां पहुंचे, तो उन्हें पत्थर फेंकने की ट्रेनिंग दी जाने लगी.

Source

यूपी पुलिस ने इस मामले की जानकारी मिलने के बाद जांच के आदेश दे दिए हैं. बागपत के एसपी और सहारनपुर के एसएसपी से जांच पूरी कर रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा गया है. सूत्रों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर पुलिस भी इस मामले में बाद में जांच करा सकती है.

Source