जिन्हें लगता है 2019 में भी पीएम मोदी प्रधानमंत्री बनेंगे उन्हें ये रिपोर्ट जरूर पढ़नी चाहिए, आखें खुल जाएँगी !

पीएम मोदी के सत्ता में आने के बाद से ही भारत का नाम विश्वस्तर पर ऊंचा हुआ है और भारत ने कई नए मुकाम भी हासिल किये हैं. इस बीच देशभर में जहां पीएम मोदी को भरपूर प्यार और सम्मान मिला है वहीं विरोधियों ने लगातार नीचता दिखाते हुए उन्हें गलत साबित करने की कोशिश की है. विपक्ष में शामिल कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी ने हाल ही में हुए गुजरात चुनावों में बीजेपी के खिलाफ जमकर प्रचार किया था लेकिन गौर से देखें तो उनका प्रचार बीजेपी के खिलाफ कम व्यक्तिगत रूप से पीएम मोदी के खिलाफ ज्यादा था.

source

कौन होगा 2019 में पीएम ? 

यहाँ सवाल यह है कि आखिर 2019 में किसके सिर पर पीएम पद का ताज सजेगा ? एक बार फिर पीएम मोदी होंगे या फिर इस बार कोई नया  चेहरा सामने आएगा या कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गाँधी ?  अब इसके बारे में एक मैगज़ीन ने रिसर्च करते हुए बड़ा खुलासा किया है. यकीनन इस रिपोर्ट को पढ़ने के बाद विपक्ष के हाथ-पैर फूल जाएंगे.

source

2019 ही नहीं 2029 तक पीएम मोदी को हरा पाना मुश्किल है ! 

ब्लूमबर्ग मीडिया ने 16 देशों के नेताओं की स्टडी करते हुए इस बात का खुलासा किया है कि पीएम मोदी की लोकप्रियता इतनी बढ़ गयी है कि अब उन्हें हरा पाना बेहद मुश्किल है. 2019 में पीएम मोदी के जीतने के पूरे-पूरे आसार हैं और यदि सब ऐसे ही चलता रहा तो पीएम मोदी 2029 तक पद नहीं छोड़ेंगे. पीएम मोदी ने अपना कद इतना बढ़ा लिया है कि इस समय कोई भी नेता उनके आस-पास भी नज़र नहीं आ रहा है.

source

देखिये लोकप्रियता के अनुसार पीएम मोदी को कितने लोग पसंद करते हैं और बाकी देशों के बड़े नेताओं की कितनी लोकप्रियता है 

source ( ब्लूमार्ग रिपोर्ट के अनुसार पीएम मोदी को 88 % भारतीय पसंद करते हैं )

देखना ये होगा कि क्या वाकई ये रिपोर्ट सच होगी के नहीं, अभी तक मोदी सरकार के काम पर नज़र डालें तो जनता काफी खुश है और सरकार के साथ भी है. आने वाले समय में अगर बीजेपी फिर से सत्ता में आई तो यकीनन भारत और भी ज्यादा प्रगति कर पाएगा. कम शब्दों में कहें तो ब्लूमबर्ग के इस सर्वे ने तो ये साफ़ कर दिया है कि आगे आने वाले सालों में भी देश की जनता पीएम मोदी को ही अपना मुखिया देखना चाहती है, अब यहाँ ये जानना और देखना दिलचस्प होगा कि आखिर आप पीएम मोदी को हराने के लिए विपक्ष क्या और कितनी घटिया चाल चलेगा.

source