तो क्या बनारस में गंगा नदी पर चल रहे ‘अलकनंदा क्रूज’ पर शराब और मांस परोसा जा रहा है? सच चौकाने वाला है !

0
6

भाजपा का दावा है कि उसकी सरकार जिस राज्य में है वहां जनता की भलाई के लिए जो कार्य संभव हैं उन्हें करने का भरपूर प्रयास किये जा रहे हैं. इस कार्य में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार सबसे आगे नजर आ रही है. पिछले साल विजय दशमी के मौके पर मुख्यमंत्री योगी ने अयोध्या में पर्यटन को बढ़ावा देने की बात कही थी. इस बात पर अमल करते हुए अब योगी ने इसकी शुरुआत भी कर दी है. हालाँकि ये शुरुआत बनारस में देखने को मिल रही है. आपको बता दें कि “अलकनंदा” नाम से एक क्रूज चलाई गयी है जो आजकल खूब चर्चा में है.

अलकनंदा क्रूज का उद्घाटन करते हुए सीएम योगी (फोटो सोर्स: ANI)

तो क्या क्रूज में मांस और शराब परोसा जा रहा है ?

दरअसल इस क्रूज को लेकर एक खबर आई जिसमें कहा जा रहा था कि बनारस में गंगा नदी पर चलने वाली इस क्रूज में मांस और शराब परोसा जा रहा है और इसको लेकर मुख्यमंत्री योगी से शिकायत भी की जा चुकी है. यह आरोप एक संत ने लगाया था जो बनारस से संबंध रखते हैं. इस आरोप के बाद आलोचनाओं का दौर जारी हो गया था. हालाँकि बाद में क्रूज मैनेजमेंट ने इस खबर को महज अफवाह बताया और कहा कि, ऐसा कुछ नहीं है कि यहाँ शराब और मांस परोसा जा रहा हो.

कहा जा रहा है कि इन्हीं संत ने मांस और शराब परोसे जाने की शिकायत की थी (फोटो सोर्स: यूट्यूब)

आजतक की रिपोर्ट में पता चली सच्चाई !

चूंकि ये मामला पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस और पवित्र नदी गंगा को लेकर था तो मीडिया ने भी इस पर काफी ध्यान दिया और सच क्या है, इसका पता लगाया. जब इस पर आजतक की तरफ से रिपोर्टिंग की गयी तो पता चला कि जिस संत ने यह आरोप लगाया था, उसने अपनी ही बात को सिरे से ख़ारिज कर दिया और ऐसी किसी बात के होने से इनकार कर दिया. संत का अब कहना है कि उन्होंने योगी से ऐसी कोई शिकायत नहीं की थी.

उधर क्रूज की तरफ से बताया गया है कि, “हम ऐसा कुछ नही कर रहे जो आपत्तिजनक हो, ये अफवाह उड़ाई जा रही है, ऐसे कामों को बदनाम करने के लिए, अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ हम लीगल एक्शन लेंगे.”

इस बारे में सम्बन्धित अधिकारी ने कहा कि..

नॉडिक क्रूज लाइन प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक मनोज पोद्दार ने बताया कि, “ये बिलकुल गलत है, सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाई जा रही है, हमने इस बात का खंडन हमने अपने फेसबुक और ट्विटर अकाउंट से भी किया है. मैं स्पष्ट करता हूँ कि हमारे क्रूज पर किसी भी तरह की नशे से सम्बन्धित कोई चीज या मांसाहार नहीं परोसा जाता और ना ही किसी को इस्तेमाल करने की अनुमति है.”

विस्तार से जानिए क्या है पूरा मामला इस वीडियो में:

अलकनंदा क्रूज की खासियतें:

पर्यटकों के लिए चलाये गये क्रूज का उद्घाटन सीएम योगी ने 1 सितम्बर को किया था. इसे खिड़कियाँ घाट से गंगा नदी में उतरा गया. दो मंजिला इस क्रूज में नीचे के फ्लोर को पूरी तरह से एयर कंडीशन रखा गया है. यह हाल नुमा है, जिसमें पार्टी, मीटिंग और इवेंट किये जा सकते हैं. बायो टॉयलेट वाले इस क्रूज में ध्यान रखा गया है कि कोई भी गंदगी गंगा नदी में ना जा पाए. इसमें एक पैंट्री भी होगी जिससे यात्रियों को नाश्ता, दोपहर का लंच परोसा जा सके. शुरुआत में इस क्रूज को अस्सी घाट से राजघाट तक चलाने की योजना है.

‘अलकनंदा क्रूज’ का एक दृश्य (फोटो सोर्स: NDTV)

सवार होने के लिए खर्चा:

इस क्रूज की सवारी करने के लिए लोगों को 750 रूपये देने होगें. इस क्रूज में तक़रीबन 90 लोगों के लिए जगह होगी. जिसमें 60 नीचे और 30 ऊपर बैठ सकते हैं.